आर्तव वह स्त्रोतस (अभ्यन्तर स्त्रोतस) : अर्तववहे द्वे, तयोर्मुलं गर्भाशय आर्तववहिन्यश्च धमन्यः| तत्र विद्धायं वन्ध्यत्वा मैथुनासहिष्णुत्वम् मार्तावनाशश्च || (सू.शा.९/१२) ·         

Read More